रोजगार पर निबंध – रोजगार की परिभाषा।

आज के इस लेख में हम लोग रोजगार पर निबंध लिखना सीखेंगे कई बार बच्चो को स्कूल और कॉलेज में (Essay) निबंध लिखने का कार्य दिया जाता है लेकिन अधिंकांश बच्चे चिंतित रहते है कैसे लिखेंगे और रोजगार क्या होता है रोजगार की परिभाषा क्या है इन प्रकार के प्रश्न मन में उठते है लेकिन इस लेख को पढ़ें के इन प्रश्नो के उत्तर मिल जायेंगे।

रोजगार हर जीवित व्यक्ति के लिए आवश्यक है क्योकि बिना रोजगार के लोग अपने सपनों के करीब नहीं पहुंच सकते है जीवन के शौक और सोहरत से वंचित रह जाते है कई खुवाहिसे अधूरी रह जाती है सपने टूट जाते है अपने सपने तो टूटते ही है लेकिन साथ साथ माता पिता भाई बहन और रिलेटिव के भी सपने टूट जाते है जो की व्यक्ति के बेरोजगारी पर देखि जा सकती है।

रोजगार पर निबंध ।

rojgar-par-nibandh

जिस प्रकार से सभी व्यक्ति के लिए कपडे रोटी और मकान की आवश्यकता होती है उसी प्रकार से हर व्यक्ति को रोजगार की आवश्यकता होती है बिना रोजगार के कपडे रोटी मकान प्राप्त करने में काफी कठिनाई होती है बिना रोजगार के कई चीजों से वंचित रह जायेंगे जीवन में प्राप्त नहीं कर सकते है।

रोजगार से मनुष्य रूपये या दौलत ही नहीं कमा सकता है साथ साथ उन्नति अवसर प्रगति शोहरत इज्जत जीवन में कामयाबी आदि की प्राप्ति कर सकता है रोजगार केवल जीविका चलाने के लिए ही नहीं किया जाता है बल्कि रोजगार से बहुत सारी उचाईयो को छू सकते है और जीवन खुशियों से बिता सकते है।

रोजगार हमें बहुत सारी नयी चीजों से रूहबरु करवाता है जिसके बारे में नहीं भी जानते है लेकिन रोजगार से हमे कई विषयो का ज्ञान होता है उसी ज्ञान के बदौलत कामयाबी हासिल कर सकते है।

रोजगार हर व्यक्ति के जीवन का एक अहम् हिस्सा है बिना रोजगार के जीवन यापन करना नामुमकिन है क्योकि हर ज़रूरत को पूरा करने के लिए पैसो की आवश्यकता होती है वही पैसे हमे रोजगार करने से ही मिलते है रोजगार कई प्रकार के हो सकते है चाहे वो नौकरी पेशा हो व्यवसाय पेशा हो या किसी अन्य प्रकार का रोजगार हो।

वर्तमान में रोजगार की ओर पुरुष और महिलाये दोनों आगे बढ़ रहे है और कठिन परिश्रम करके रोजी कमाकर अपना जीवन यापन करते है ताकि अपनी खुसियो और सपनो को आसानी से पा सके और शान वो शोहरत का जीवन व्यतीत कर सके अधिकांश लोगो का यही मकसद होता है कि बच्चो की अच्छी परवरिश हो जाये अच्छी शिक्षा मिल जाये अपने जीवन में कामयाब हो जाये और रोज मर्रा की जीवन आने वाली खुवाहिसो को पूरा कर सके।

भारत एक कृषि प्रधान देश है जहा 70 से 80 प्रतिशत आबादी गांव में खेती करके अपना जीवन व्यापन करती है खेती से अपना जीविका चलाते है खेती में कई प्रकार की फैसले उगाते है उसी से अनाज पैदा करते है और उसमे से कुछ हिस्सा अपने खाने में इस्तेमाल करते है और बचे हिस्से को बेच देते है उससे कुछ रूपये कमा लेते है उसी पैसे से रोज मर्रा की चीजे को खरीदते है और जीविका चलाते है।

भारत की कुछ प्रतिशत आबादी कम्पनियो में नौकरी करके व्यवसाय करके सरकारी नौकरी करके जीविका चलाती है नौकरी वाले व्यक्तियों को मानसिक वेतन प्राप्त होती है इन रोजगार को वेतन रोजगार भी कहते है वही व्यवसाय रोजगार को स्वरोजगार भी कहते है इसे किसी व्यक्ति के द्वारा स्वम शुरू किया जाता है इससे कई अन्य व्यक्तियों के लिए रोजगार भी उत्पन्न होते है।

वर्तमान में ऑउटसोर्सिंग रोजगार काफी वूम पर है इसमें किसी पुरुष या महिला के द्वारा अपने घर या ऑफिस में बैठकर किसी दूसरे के कार्य को पूरा करके देना उसके बदले में उससे रूपये लेना यह कार्य कम्पनी संसथान कार्यलय या व्यक्ति के हो सकते है इससे काफी अच्छी आमदनी की जा सकती है।

किसी भी क्षेत्र में रोजगार प्राप्त करने के लिए शिक्षा काफी ज़रूरी है बिना शिक्षा के किसी क्षेत्र में रोजगार नहीं पा सकते है चाहे सरकारी रोजगार हो या फिर प्राइवेट रोजगार हो किसी क्षेत्र में नौकरी नहीं पा सकते है।

इससे भी पढ़े…

रोजगार की परिभाषा।

रोजगार मनुष्य के जीवन का अहम् पहलु है और मुलभुत आवश्यकता है बिना रोजगार के जीवन व्यतीत करना काफी मुश्किल है रोजगार एक साधन है जिससे हम जीविका चला सके हर इन्शान को अपने जीवन में रोजगार का कोई न कोई माध्यम चुनना ही पड़ता है ताकि वह अपनी मूलभुत आवश्यकताएं पूरी कर सके।

रोजगार की परिभाषा को आप इस प्रकार से समझे है अपनी मेहनत से कार्य को करना उसके बदले की रूपये प्राप्त करने को ही रोजगार कहते है रोजगार कई प्रकार के होते है जितने प्रकार की आय स्रोत्र होती है उतने ही प्रकार की रोजगार होती है।

सभी व्यक्ति को रोजगार करना ज़रूरी होता है तभी रोटी कपडा मकान की प्राप्ति कर सकते है और जीविका चला सकते है अपने सपने को पूरा कर सकते है रोज मर्रा की वस्तु को आसानी से खरीद सकता है अपने बच्चो को अच्छी तालीम दे सकता है अपने माता पिता का ख्याल रख सकते है।

रोजगार के लिए शिक्षा आवश्यक क्यों है।

यदि आप किसी क्षेत्र में रोजगार चाहते है तो बिना शिक्षा के मुश्किल है क्योकि शिक्षा के बिना मनुष्य कई चीजों को आसानी से समझ नहीं सकता है पढ़ नहीं सकता है लिख नहीं सकता है।

जीवन में शिक्षा भी एक अहम् भूमिका निभाती है शिक्षा के बिना मनुष्य अधूरा होता है शिक्षा व्यक्ति के व्यक्तित्वा पर काफी प्रभाव डालती है जिससे जीवन में रोजगार प्राप्त करने में आसानी और जीवन व्यापन में आसानी उपलब्ध करवाती है शिक्षा से मनुष्य के सोचने समझने में प्रभाव पड़ता है किसी वस्तु की अच्छी बुरी समझ करने में आसानी होती है एक शिक्षित व्यक्ति को।

हर कंपनी उसी व्यक्ति को नौकरी देती है जिस मनुष्य के अंदर कौशल सोचने समझने की क्षमता और शिक्षित होता है या फिर कई चीजों से वंचित रह जाता है कई व्यक्ति शिक्षा के वजह से बहुत पीछे रह जाते है क्योकि उन्हें अधिकांश चीजे पता नहीं होती है।

शिक्षा मनुष्य के जीवन में अपार अवसर प्रदान करती है शिक्षित व्यक्ति के सफलता को कोई नहीं रोक सकता है कही रोजगार करके आसानी से अपनी जीवन व्यतीत कर सकता है।

निष्कर्ष

मुझे आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा इस लेख में हमने आपको यह जानकारी दी है की रोजगार पर निबंध कैसे लिखते है इसकी विशेष जानकारी एक प्रारूप के साथ दी गयी है इस जानकारी को पूरा पढ़कर (Rojgar par nibandh) लिख सकते है यदि इस लेख से संबधित कोई प्रश्न है तो आप कमेंट के जरिये पूछ सकते है लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर करे ताकि और लोगो तक यह जानकारी पहुंच सके।

Leave a Comment

error: Content is protected !!