अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार ।

क्या आपने बैंक से लोन ले रखा है और उस लोन रकम को चुकाने में परेशानी आ रही है तो क्या करना चाहिए आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार. ऐसा नहीं है कि लोन देने वाली संस्थाओ के पास ही कार्यवाही करने के अधिकार है सरकार ने उधारकर्ता को भी अपने बचाव के लिए अधिकार दिए है।

वर्तमान समय में हर एक काम के लिए बैंक और अन्य लोन देने वाली कम्पनिया उधारकर्ता को ऋण मुहैया करवा रही है चाहे वो व्हीकल लोन, प्रॉपर्टी लोन, होम लोन, पर्सनल लोन, कॉर्पोरेट लोन, एजुकेशन लोन, हो सभी प्रकार के लोन बैंक द्वारा मुहैया करवाये जाते है लेकिन कई बार उधारकर्ता की आर्थिक स्थिति ख़राब होने की वजह से वह लोन रकम को चुकाने में असर्थ हो जाता है और ईएमआई नहीं भर पाता है।

उधारकर्ता के द्वारा लोन रकम न चुकाने पर बैंक डिफाल्टर घोषित कर देता है उसके बाद बैंक ग्राहक के ऊपर कानूनी कार्रवाई भी करता है लेकिन इस अवस्था में ग्राहक को क्या करना चाहिए क्योकि ग्राहक के पास लोन चुकाने के लिए पैसे भी नहीं है बैंक कानूनी कार्रवाई कर रहा है ग्राहक को डर होता है की जेल न जाना पड़ जाये।

ऐसी स्थिति में ग्राहक के पास भी कुछ विकल्प होते है जिससे ग्राहक को इस्तेमाल करना चाहिए वैसे बैंक के पास डिफाल्टर घोषित करने के बाद कई प्रकार की कानूनी कार्यवाही करने का अधिकार होता है यदि बैंक कानूनी कार्यवाही को आगे बढ़ाता है तो ग्राहक को जेल और कोर्ट के चक्कर भी लगाने पड़ सकते है। इसमें ग्राहक के पास क्या अधिकार है उस पर चर्चा करते है।

अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार।

ager-nhi-chuka-pa-rahe-hai-loan

अगर आपने बैंक से लोन ले रखा है और उस रकम को नहीं चूका पा रहे है तो आपको चिंता करने की ज़रूरत नहीं है उधारकर्ता को सरकार ने कई ऐसे अधिकार दिए है कर्जदारों को बिना इत्तिला किये बैंक कोई कार्यवाही नहीं कर सकता है गिरवी रखी संपत्ति नीलामी से लेकर नोटिस देने तक नियम बनाये गए है इन नियमो का कोई भी उलंघन करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई ग्राहक खुद कर सकता है।

बैंक से लिए लोन नहीं चूका पा रहे है तो उधारकर्ता के साथ कोई कर्मचारी बत्तमीजी नहीं कर सकता है चाहे वो कोई बैंक का कर्मचारी हो या कोई एजेंट हो उधारकर्ता के प्राइवेसी को मेन्टेन करके रखना होगा बैंक एजेंट रात के समय उधारकर्ता के घर नहीं आ सकते है ये एजेंट सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे के बीच ही आ सकते है एजेंट उधारकर्ता को और उसके फॅमिली को तंग नहीं कर सकते है केवल लोन चुकाने की ही बात कर सकते है यदि इसके विपरीत कोई एजेंट चलता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जा सकती है।

बैंक उधारकर्ता को सीधे क्रिमनलिस्ट घोषित नहीं कर सकता है बकाया राशि वसूलने के लिए बैंक को सारे प्रोसीज़र फॉलो करने होंगे यदि पेमेंट 90 दिनों तक ड्यू रहती है तो उसे नॉनफार्मिंग लिस्ट में डाल दिया जाता है जिसमे उधारकर्ता को 60 दिनों वाला नोटिस जारी करना होता है किसी भी उधारकर्ता को इतना समय तो चाहिए ही उसका अधिकार है।

यदि उधारकर्ता यहाँ भी फेल हो जाता है लोन रकम चुकाने में। तो बैंक में रखी सम्पत्ति बैंक नीलाम कर सकता है हलाकि नीलामी से पहले लैंडर को इसकी नोटिस भेजी जाती है फिर प्रॉपर्टी की नीलामी के लिए पब्लिक्ली अनाउंस करना होता है संपत्ति को उसकी कीमत से कम में नहीं नीलाम किया जा सकता है जो उसकी कीमत होगी उसी कीमत पर संपत्ति को नीलाम किया जायेगा संपत्ति नीलाम होने के बाद लोन रकम को काट लिया जाता है और बचा हुआ पैसा उधारकर्ता को वापस कर दिया जाता है जोकि उसके अकाउंट में भेज दिया जाता है।

बैंक में गिरवी रखी संपत्ति को बिना उधारकर्ता को बताये बैंक नीलाम नहीं कर सकता है पहले उधारकर्ता को इसकी नोटिस भेजी जाएगी उसके बाद ही संपत्ति को नीलाम की जा सकती है और संपत्ति नीलाम होने के बाद लोन वाली रकम बैंक काट लेगा उसके बाद बची रकम को बैंक उधारकर्ता के बैंक खाते में ट्रांसफर कर देगा।

इसे भी पढ़े.

कृषि लोन न चुकाने पर क्या होता है?

बैंक से लिए लोन ग्राहक को किसी भी हालत में चुकाना ही पड़ेगा लेकिन हाँ बैंक से लोन चुकाने के लिए कुछ समय ले सकते है किसी भी प्रकार का लोन हो उसके लैंडर को चुकाना ही पड़ेगा बिना चुकाए कोई चांस नहीं बचने का। मैं आपको बता दू यदि आप बैंक से लोन ले रहे है या लेने के बारे में सोच रहे है तो उतना लोन ले जितना आप आसानी से चूका सके।

बात करे कृषि लोन की तो इस लोन रकम को भी चुकाना होता है जिस तरह से और लोन रकम के लिए बैंक कार्यवाही करता है उसी तरह इस लोन रकम न चुकाने पर भी कार्यवाही कर सकता है ऊपर के लेख को पढ़कर आपको समझ आ गया है उधारकर्ता के पास क्या अधिकार होते है और किस तरह से लोन चुकाने के लिए बैंक से ग्राहक थोडे समय का मोहलत ले सकता है।

मुद्रा लोन न चुकाने पर क्या होगा?

जैसा की ऊपर के लेख में हम लोगो ने देखा किस तरह से बैंक उधारकर्ता के ऊपर कार्यवाही करता है फिर उधारकर्ता किस तरह से बचता है मैं आपको बता दू किसी प्रकार का कोई भी लोन हो वो उधारकर्ता को चुकाना ही पड़ेगा बिना चुकाए कोई चांस ही नहीं की उधारकर्ता बच जायेगा।

आशा है यह लेख आपको पसंद आया हो इसमें हम लोगो ने बहुत अहम् प्रश्न का उत्तर जाना है ऐसे प्रश्नो को लेकर बहुत सारे उधारकर्ता परेशान रहते है अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार. इन अधिकारों का लैंडर फायदा उठा सकता है ऐसी ही जानकारी इस ब्लॉग पर पब्लिश की जाती है और इनफार्मेशन के लिए हमारे ब्लॉग पर पब्लिश और आर्टिकल पढ़ सकते है।

इस लेख में कोई जानकारी बताने में मिस हो गयी हो या आपका कोई प्रश्न है तो लेख के निचे कमेंट बॉक्स का विकल्प मिल जायेगा उसका सहारा लेकर मुझे अपना प्रश्न भेज सकते है उसका उत्तर आपको अवश्य दिया जायेगा इस जानकारी को अधिक लोगो तक पहुचाये ताकि और उधारकर्ताओं को अपने अधिकार के बारे में पता चले।

Leave a Comment