जो कर्ज में डूबा हो उसे क्या कहते हैं?

बहुत सारे कामो के लिए लोगो को लोन लेना पड़ता है लोन कई तरह के होते है जोकि हर व्यक्ति अपने और अपने काम के अनुसार बैंक से या ऋण देने वाली संस्था से कर्ज लेते है लेकिन जो कर्ज में डूबा हो उसे क्या कहते हैं. कर्ज कैसे चुकाना है. और लोन न चुकाने पर क्या होगा इसकी जानकारी मैं आपको देने वाला हूँ।

कई कामो के लिए हममें से बहुत सारे लोग लोन लेते है जैसे घर बनवाने के लिए लोन, पढाई करने के लिए लोन, गाड़ी खरीदने के लिए लोन, जमीन लेने के लिए लोन, बिज़नेस शुरू करने के लिए लोन, और ऐसे कई काम के लिए लोन लेते है जिस भी काम के लिए लोगो को लोन की आवश्यकता पड़ती है जिसके लिए लोग बैंक या ऋण देने वाली संस्था से सपर्क करते है।

अधिकतर बैंको के द्वारा लोन मुहैया किया जाता है जिस पर बैंक उधारकर्ता से ब्याज चार्ज करता है यह ब्याज दर सभी बैंक का अलग अलग होता है जोकि उधारकर्ता को बैंक को चुकाना पड़ता है लोन रकम को कर्जदार किस्तों में चुकाता है जो बैंक के द्वारा लोन देते समय तय की जाती है ग्राहक किस्तों को अपने आय स्रोत्र के अनुसार बैंक से सेट करवा सकता है।

आज के इस आधुनिक युग में अधिकतर व्यक्ति कर्जदार होते है वो क्यों न व्हीकल लेकर कर्जदार बने हो इसके अतिरिक्त कई ऐसे काम के लिए लोगो को बैंक से ऋण लेना पड़ता है जोकि बैंक से बड़ी आसानी से ऋण मिल जाता है लेकिन ऋण के लिए कई ज़रूर दस्तावेज की आवश्यकता पड़ती है उधारकर्ता को बैंक को दिखाने पड़ते है।

जो कर्ज में डूबा हो उसे क्या कहते हैं?

jo-karj-me-duba-ho-use-kya-kahte-hai

कर्ज में डूबे व्यक्ति को अंग्रेजी में Person in debt कहते है इसके अलावा आप उधारकर्ता, नयी ऋणी, कर्जदार, डेप्टर, देनदार, कह सकते है उधारकर्ता को आप इन नामो से पुकार सकते है इसके अतिरिक्त भी ऋण लेने वाला व्यक्ति भी कह सकते है इन नामो से एक बैंक के कर्जदार को जान सकते है।

कई बार व्यक्ति के न चाहते हुए भी लोगो को कर्ज लेना पड़ता है क्योकि कई बार ऐसी ही परस्थिति आ जाती है वैसे आज के समय में हर एक व्यक्ति लोन लेना पसंद करता है कई तरह के कर्ज लोग एक साथ लेते है आज के इस महगाई के दौर में हर एक काम को शुरू करने या पूरा करने में काफी खर्च आता है जिसके लिए लोगो को लोन लेना पड़ता है।

जब कर्जदार बैंक से उधार कुछ समय के लिए पैसे लेता है तो वह बैंक का कर्जदार हो जाता है उस लोन रकम को व्यक्ति को माहवारी किस्तों में बैंक को पैसा वापस करना पड़ता है कई बार इन ऋण के लिए उधारकर्ता से बैंक गिरवी के रूप कुछ प्रॉपर्टी भी रखवाता है जिसमे व्यक्ति रकम बैंक को न वापस कर पाए तो उस सम्पति से बैंक रिकवरी कर सकता है।

बैंक उधारकर्ता के क्रेडिट स्कोर को देखकर और उसके दस्तावेज के मुताबिक लोन देने के लिए तैयार होता है सिविल स्कोर ख़राब होने पर बैंक आवेदक को लोन देने से इंकार कर देता है या फिर बैंक लोन देने में आनाकानी करता है अगर आवेदक का सिविल स्कोर अच्छा है तो बैंक बड़ी आसानी से आवेदक के लोन को मंजूरी दे देता है।

लोन न चुकाने पर क्या होगा?

कई उधारकर्ता के मन में यह प्रश्न रहता है की लोन न चुकाने पर जेल हो सकती है अगर जेल नहीं होता है तो लोन न चुकाने पर क्या हो सकता है तो मैं आपको बता दू उधारकर्ता के द्वारा लिए गए बैंक से लोन रकम को समय समय पर बैंक को किस्तों में रीपेमेंट करना पड़ता है।

लेकिन कई उधारकर्ता की परस्थिति ख़राब होने के कारण वह बैंक के पैसे को समय पर वापस करने में असमर्थ रहते है इस अवस्था में उधारकर्ता बैंक से संपर्क करके पैसे वापस करने के लिए टाइम ले सकता है फिर भी उधारकर्ता बैंक के पैसे चूका नहीं पाता है तो बैंक कानूनी कार्यवाई शुरू कर सकता है।

लोन न चुकाने पर बैंक क्या करता है यह बैंक और उधारकर्ता के व्यवहार पर निर्भर करता है अगर बैंक से उधारकर्ता का सम्बन्ध अच्छा है तो उधारकर्ता के लिए अच्छा हो सकता है वही सम्बन्ध न सही होने पर बैंक उधारकर्ता पर कानूनी कार्यवाई के तैयार हो जाता है। फिर उधारकर्ता को कोर्ट कचेहरी के चक्कर लगाने पड़ सकते है।

कर्ज कैसे चुकाना है?

बहुत सारे लोगो को कर्ज को चुकाने में काफी परेशानी आती है लेकिन मैं आपको बता दू कर्ज उतना ही बैंक से ले जितना आप आसानी से चूका सके क्योकि कई ऐसा होता है कई लोग बड़ी रकम में बैंक से उधार पैसे तो ले लेते है फिर वह समय पर चूका नहीं पाते है जिससे उधारकर्ता को काफी परेशानी आती है इसलिए लोगो को बैंक से उतना ही ऋण लेना चाहिए जितना बैंक को रीपेमेंट कर पाए।

बैंक से ऋण लेते समय यह ध्यान देना चाहिए की आपकी आय स्रोत्र कितना है उसी के मुताबिक आप बैंक से ऋण ले और उसी हिसाब से माहवारी किस्तों को सेट करवाए ताकि आपको बैंक को पैसे रिटर्न करने में आसानी हो और आपका कर्जा आसानी से चुकाया जा सके।

सभी आवेदक को कर्ज लेने से पहले अपने आय पर ज़रूर गौर करना चाहिए ताकि ऋण राशि निर्धारित करने में आसानी हो और ऋण लेने के बाद इसे चुकाने में भी आसानी हो।

समाप्त

आशा है इस लेख में बताई जानकारी आपको पसंद आयी होगी इसमें मैने आपको बताया की जो कर्ज में डूबा हो उसे क्या कहते हैं. कर्ज कैसे चुकाना है लोन न चुकाने पर क्या होगा इन सभी प्रश्नो के उत्तर मैंने इस लेख में दिये है ऐसी ही जानकारी मैं इस ब्लॉग के माध्यम से अपने पाठको को देता रहता हूँ अधिक जानकारी के लिए ब्लॉग पर पब्लिश अन्य आर्टिकल पढ़ सकते है।

यदि इस लेख से जुड़ा आपका कोई प्रश्न हो जिसका आप उत्तर जानना चाहते है कोई डाउट हो तो कमेंट सेक्शन का आप इस्तेमाल करके अपने प्रश्न का उत्तर जान सकते है इसके लिए आपको लेख के निचे जाना है कमेंट में अपना प्रश्न नाम ईमेल टाइप करके कमेंट करना है उसका उत्तर आपको कमेंट के माध्यम से ही मिल जायेगा।

Leave a Comment